कोई भी हो हर ख़्वाब तो अच्छा नही होता..
बहुत ज्यादा प्यार भी अच्छा नहीं होता है.
Share On Whatsapp




आँखों में चाहत दिल में कशिश है;
फिर क्यों ना जाने मुलाकात में बंदिश है;
मोहब्बत है हम दोनों को एक-दूसरे से;
फिर भी दिलों में ना जाने यह रंजिश क्यों है।
Share On Whatsapp




आँखों में आंसुओं की लकीर बन गई;
जैसी चाहिए थी वैसी तकदीर बन गई;
हमने तो सिर्फ रेत में उंगलियाँ घुमाई थी;
गौर से देखा तो आपकी तस्वीर बन गई!
Share On Whatsapp




अपने वजूद पर इतना न इतरा-ए-ज़िन्दगी,
वो तो मौत है
जो तुझे मोहलत देती जा रही है..
Share On Whatsapp




नाराज क्यों होते हो..
चले 🚶🏼👣जायेंगे तुम्हारी जिन्दगी
से बहुत दूर..
जरा टूटे हुए दिलके टुकडे तो
उठा लेने दो...
Share On Whatsapp




आँखों की झील से
दो कतरे क्या निकल पड़े
मेरे सारे दुश्मन
एकदम खुशी से उछल पडे..
Share On Whatsapp





Phool se pehle khusboo ko to dekho,
karne se pehle kaam ko to dekho,
kisike roop mein diwana naa bano,
surat se pehle uske dil ko to dekho
Share On Whatsapp




खूबसूरती की, बेपनाह इंतहा देखी..
जब मैने, मुस्कुराती हुई माँ देखी..
Share On Whatsapp