नही है शिकवा हमे किसी की बेरुखी से.... शायद हमे ही नही आता किसी के दिल में घर बनाना..
Share On Whatsapp




उनकी नजर में फर्क आज भी नही, पहले मुड़ कर देखते थे.. अब देख कर मुड़ जाते है 💔 😢
Share On Whatsapp




ख्वाहिश थी उस रिश्ते को बचाने की..और यही वजह थी मेरे हार जाने की..
Share On Whatsapp




काश रोने से नसीब बदल जाता...कसम तुम्हारी ... आंसुओं से दुनिया डुबो देते
Share On Whatsapp




उठाकर फूल को उसने बड़ी नजाकत से मसल दिया , इशारो इशारो में कह दिया की हम 💔 दिल का भी ये हाल करते है....
Share On Whatsapp




महफ़िल भले ही प्यार वालों की हो ,. उसमें रौनक तो दिल टूटे हुए आशिक़ लाते है 💔 😢
Share On Whatsapp




युहीं उम्र काटी , दो ही अल्फाज़ में ... एक आस में और एक काश में 😢💔😢
Share On Whatsapp




दिन छोटे और रातें लम्बी हो गई है ,. मौसम ने यादों का वक़्त बड़ा दिया है।
Share On Whatsapp