उसने पूछा की कौन सा तोहफा है मनपसंद,
मैंने कहा वो लम्हा जो अब तक उधार है !
Share On Whatsapp




मैं जब भी टूटता हूँ तो तुझे ढूंढता हूँ,
तु हमेशा कहती थी ना कि हम एक है
Share On Whatsapp




ताबीज़ जैसे होते है कुछ लोग,
बस गले लगते ही सुकून मिलता है
Share On Whatsapp




इस शहर के बादल तेरी ज़ुल्फों की तरह है,
जो आग़ तो लगाते है पर बुझाने नहीं आते !!
Share On Whatsapp




#मोहब्बत की दुनिया में अगर #महबूब ना मिले,

तो यकीनन इन्सान मर जाता है मगर मौत नहीं आती ,
Share On Whatsapp




सुनो, कौन हो तुम मेरे

जो आदत बन गए हो !
Share On Whatsapp




प्यार वो ही खूबसुरत हैं ...

जो एकतरफा हो..
Share On Whatsapp




रात जवान हो चली है, चलो चलते है छत पर,
तुम देखना चाँद को, मैं तुम्हे देखूँगा !!
Share On Whatsapp