अगर सलीक़ा हो भीगी हुई आँखों को पढने का ,
तो बहते हुए आंसू भी .. अक्सर बात करते हैं .. !!
Share On Whatsapp




जबरदस्ती के रिश्तों से..दिल भर गया है मेरा..
मेरे हो तो क़बूल करो..या फिर..मुझे आज़ाद करो..
Share On Whatsapp




Raat hui jab shaam ke baad,
Teri yaad aai har baat ke baad,
Humne khamosh rahkar bhi dekha,
Lekin Teri aawaj aayi har saans ke baad.
Share On Whatsapp




Mere wajood mein kaash tu utar jaye,
Main dekhu aaina or tu nazar aaye,
Tu ho samne aur ye waqt thehar jaye
Or ye zindagi tujhe dekhte hue guzar jaye
Share On Whatsapp




किसने चलाया ये तोहफ़े लेने-देने का रिवाज़ न जाने..
गरीब आदमी मिलने-जुलने से डरता है..!!
Share On Whatsapp




खुदा करे मेरी उलफ़त में तुम यूँ उलझ़ जाओ...
मैं दिल में सोचूँ तुम्हें और तुम समझ जाओ...!!
Share On Whatsapp




तेरी रुसवाइयों के डर से हम खामोश है वरना,
लिखने पे जो हम आये तो क़लम से सर क़लम कर दें.. !!
Share On Whatsapp




बहुत वक्त गुजर गया तुम्हारी खबर नहीं कोई,
मेरी यादें तुम्हारा ख्याल तो रख रही है ना??
Share On Whatsapp